TRY Blogging

toothpaste for dinner

Saturday, July 23, 2011

मिला हमसे अजनबी की तरह

किया है प्यार जिसे हमने ज़िंदगी की तरह
वो आशना भी मिला हमसे अजनबी की तरह

बड़ा के प्यास मेरी उस ने हाथ छोड़ दिया
वो कर रहा था मुरव्वत भी दिल्लगी की तरह

किसे खबर थी बढेगी कुछ और तारीकी
छुपेगा वो किसी बदली में चांदनी की तरह

कभी न सोचा था हमने "क़तील" उस के लिए
करेगा हम पे सितम वो भी हर किसी की तरह
                                                        -- क़तील शिफ़ाई

3 comments:

Anonymous said...

A wonderful creation, by a wonderful writer

Anonymous said...

Aw, this was a really nice post. In idea I would like to put in writing like this additionally - taking time and actual effort to make a very good article… but what can I say… I procrastinate alot and by no means seem to get something done.

NUKTAA said...

thanx :)