TRY Blogging

toothpaste for dinner

Wednesday, November 9, 2016

My sweetest poem

And the broken wings
I thought are my fate
Despair, sorrows, falls, heartburns
will stick to me forever,
I began to think of late

And then you come
with your magic touch,
you kissed and healed my every flaw
Who knew you would smile
at me in the way as such
Now stay and keep this spell,
unbroken for eternity long
Be with me on my lips,
My sweetest poem, My Beautiful song

Friday, July 22, 2016

KG Speakth on Love

Love has no other desire but to fulfill itself.
But if you love and must needs have desires,

let these be your desires:
To melt and be like a running brook that sings,

its melody to the night.
To know the pain of too much tenderness.
To be wounded by

your own understanding of love;
And to bleed willingly and joyfully.
To wake at dawn,

with a winged heart
and give thanks for another day of loving;
To rest at the noon hour and meditate love's ecstasy;
To return home at eventide with gratitude;
And then to sleep with a prayer for the beloved in your heart
and a song of praise upon your lips. ~Khalil Gibran

 

Wednesday, June 24, 2015

A Magus, A Shaman and A Yogi

Some storytellers can make you walk every step of their lead's journey. These guides are spiritually evolved beings like magi, shamans or yogis.

Here are a few, I was lucky enough to read.



A Magus: Paulo Coelho
 
 

 A Shaman: Carlos Castaneda
 
 

 A Yogi: Karan Bajaj
 
 

Tuesday, August 19, 2014

if it has to be

if it has to be
let me cry over everything dead
let me shed an eternity long skin
let me weep out my soul on shoulders thine
let me sing joys that has been

...life
...dream
...purpose

Friday, April 18, 2014

आशना

किस्मत रिसॉर्ट्स का पिछला अहाता एक बेहद खुबसूरत और बिना भीड़भाड़ वाले बीच पर खुलता हैं, ये देखकर पिछले छः घंटों के सफर की थकान  वो पल भर में भूल गयी. रूम में अपनी बैग्स लगा कर वो बीच पर चली आई.  शाम  का वक़्त हो  चला था और सूरज अपनी सुनहरी धुप का लबादा ओढ़े समंदर में आधा उतर चूका था।  

आशना, अपने बालों में समंदर से बहकर आती थकान भुला देने वाली हवाओं को महसूस करती हुयी, काफी देर तक बैठी रही. ठंडी सफेद रेत का अपने तलवो में चुभना उसे काफी अच्छा लग रहा था. दूर तक बीच पर उसके अलावा कोई नहीं था. 

खुद के लिए कलकत्ता से कोंकण तक के सफर में इतना लम्बा सुकूनभरा लम्हा उसे कहीं अब जाकर मिला था. पुराने मोहल्ले के तंग गलियो से शुरू हुआ उसका पूरा सफर उसके सामने से गुजर रहा था. सफर का हर छोटा मकाम, हर इंसान जो उसे सफर  में मिला, हर तजुर्बा, हर  एहसास,  नयी आवाज़ें, ज़बानें सब कुछ उसकी नज़रों के सामने से गुजरने लगा. 

पुराने मोहल्ले की तंग गलियों से झाँकता आसमान कितना बेतरतीब नज़र आता था, यहाँ कितना खुला आज़ाद लगता है? अजीब सवालों  के जवाब, मायने, वजहों के दिलकश जाल बुनती वो अपने आप पर मुस्कुरा रही थी. अजीब ख्यालों में उलझते हुए अचानक ही आशना ने अपने मायने पा लिये। अचानक उसे अपने लिए, अपने आसपास की हर शह के लिए बेइंतहा मुहब्बत महसूस होने लगी . 

अचानक वो "आशना" हो गयी