TRY Blogging

toothpaste for dinner

Saturday, June 20, 2009

इक नज़्म अधूरी हैं

इक नज़्म अधूरी हैं,
आंखों में क़ैद
अधबुने ख्वाब सी
सीने सी लबों तक का
अधुरा सफर तय करती
अधपकी बात सी
इक नज़्म अधूरी हैं,
आंखों में क़ैद
अधबुने ख्वाब सी

1 comments:

Manna said...

http://kashishhh.blogspot.com/2010/02/ek-nazm-adhuri-hai.html

Yaad hai woh din
Tera naam likhkar
Kap kapaati haathon se
Kalam rukgayi thi
Geeli ankhon se bheege
Kayi panne us kitaab ke
Wahin targayi thi
Ek do harf bhi
Us nazm ki
Jo adhuri si hai
Unhi pannon mein
Aaj bhi..